1 of 1 parts

OSSSC में जूनियर क्लर्क/जूनियर असिस्टेंट के पदों पर निकली भर्तियां

By: Team Aapkisaheli | Posted: 02 Jan, 2019

OSSSC में जूनियर क्लर्क/जूनियर असिस्टेंट के पदों पर निकली भर्तियां
ओडिशा सब-ऑर्डिनेट स्टाफ सेलेक्शन कमीशन (ओएसएसएससी) ने जूनियर क्लर्क/जूनियर असिस्टेंट के रिक्त पडे 1746 पदों पर कॉन्ट्रैक्टचुअल आधार पर भर्ती हेतु आवेदन आमंत्रित किए जा रहे है। इन पदों पर इच्छुक व योग्य उम्मीदवार 06 फरवरी 2019 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

पद का नाम व पदों की संख्या।

पद का नाम : जूनियर क्लर्क/जूनियर असिस्टेंट।
पदों की संख्या : 1746 कुल पद।

शैक्षणिक योग्यता :
शैक्षणिक योग्यता संबंधित अधिक जानकारी के लिए उम्मीदवार निचे दिए लिंक पर देखें।

आयु सीमा :
अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 18 से और अधिकतम 32 वर्ष होना आवश्यक है।

आवेदन कैसे करें :
उम्मीदवार पदों की जानकारी, आयु सीमा, योग्यता, नियमों और अन्य शर्तों के लिए नीचे दिए गए लिंकके माध्यम से पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

https://www.osssc.gov.in/Public/Advertisements.aspx

#महिलाओं के ये 6 राज जान चौंक जाएंगे आप


osssc recruitment 2018,junior clerk and junior assistant post,osssc junior clerk and junior assistant jobs,odisha sub ordinate staff selection commission vacancy,govt jobs,latest govt jobs,career news in hindi

Mixed Bag

News

मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार 
करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है
 जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा,
मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा, "एक चीज जो मैंने अपने बारे में सीखी है, वह यह कि मुझे अलग, भीड़ से दूर रहना पसंद है। मैंने खुद से प्यार किया है। मैंने बहुत से लोगों को शिकायत करते देखा कि वे घर पर बोर हो चुके हैं या वे बाहर नहीं जा सकते। मैं भी एक एक्सट्रोवर्ट हूं, मैं एक बहुत ही सामाजिक व्यक्ति हूं, लेकिन इस क्वारंटाइन ने मुझे यह एहसास दिलाया है कि मैं लोगों से मिलने की बजाय अलगाव पसंद करती हूं, क्योंकि मैं वास्तव में लोगों के संपर्क में नहीं हूं।"उन्होंने आगे कहा, "मैं किताबे पढ़ने पर जोर दे रही हूं, ज्यादा टेलीविजन नहीं देखा, लेकिन अब शो देखना शुरू कर दिया है। मैंने अपनी मां के साथ बहुत समय बिताया है, और ईमानदारी से कहूं तो ऐसे दिन भी थे जब मैंने कुछ नहीं किया।"भूमी का कहना है कि आत्म-प्रेम खुशी की चाबी है और उसने इस लॉकडाउन में खुद को प्राथमिकता दी है।उन्होंने आगे कहा, "मैंने जीवन में जो कुछ भी महत्वपूर्ण है, उसे प्राथमिकता दी है। मैंने खुद को फिर से शिक्षित किया है। लेकिन सबसे बड़ी सीख यह रही है कि मुझे अकेले रहना बहुत पसंद है।" (आईएएनएस)

Ifairer