1 of 5 parts

रूसी, पपडी और बालों के झडने में, आखिरकार देसी उपाय ही काम आये

By: Team Aapkisaheli | Posted: 06 May, 2017

रूसी, पपडी और बालों के झडने में, आखिरकार देसी उपाय ही काम आये
रूसी, पपडी और बालों के झडने में, आखिरकार देसी उपाय ही काम आये
बालों की समस्या जैसे उनकी बनावट का पतला होना, रूखा होना, समय से पहले सफेद होना या टूटना, रूसी और पपडी जमना आदि अस्वस्थ स्कैल्प के संकेत हैं। क्या आपको इनमें से कोई समस्या है। अगर है तो सबसे पहले अपने स्कैल्प को पहचानें। बालों की सुन्दरता उनकी जडों से जुडी होती है। इसलिए स्कैल्प केयर से ही उन्हें स्वथ्य व सुन्दर बनाएं रखा जा सकता है। स्कैल्प केयर के लिए क्लीनिंग, मसाज और डाइट का विशेष ध्यान रखें।
डर्मेटोलौजिस्ट का माना है कि अगर स्कैल्प के साफ-सफाई पर ध्यान नहीं दिया जाए तो डैड स्किन सैल्स बनने लगती हैं फिर बैक्टीरिया और कैमिकल्स के चलते केश झडने लगते हैं। यही नहीं, इससे इन्फैक्शन भी हो सकता है।
स्कैल्प को हैल्दी रखने के लिए उचित खानापान जरूरी है। प्रोटीन, मिनरल्स और विटामिन से बालों की ग्रोथ में बढोतरी होती है लो फैट डेयरी प्रोडक्ट्स, फल व सब्जियों वाली बैलेंस्ड डाइट लेने से स्कैल्प के साथ-साथ बालों में भी शाइनिंग आती है।

 



#सावधान! रसोई में रखी ये 5 चीजें, बन सकती है जहर!


रूसी, पपडी और बालों के झडने में, आखिरकार देसी उपाय ही काम आये Next
Home treatment to get rid of hair problems, hair problems, hair loss, hair shin, hair dandruff, hair fall,

Mixed Bag

News

मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार 
करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है
 जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा,
मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा, "एक चीज जो मैंने अपने बारे में सीखी है, वह यह कि मुझे अलग, भीड़ से दूर रहना पसंद है। मैंने खुद से प्यार किया है। मैंने बहुत से लोगों को शिकायत करते देखा कि वे घर पर बोर हो चुके हैं या वे बाहर नहीं जा सकते। मैं भी एक एक्सट्रोवर्ट हूं, मैं एक बहुत ही सामाजिक व्यक्ति हूं, लेकिन इस क्वारंटाइन ने मुझे यह एहसास दिलाया है कि मैं लोगों से मिलने की बजाय अलगाव पसंद करती हूं, क्योंकि मैं वास्तव में लोगों के संपर्क में नहीं हूं।"उन्होंने आगे कहा, "मैं किताबे पढ़ने पर जोर दे रही हूं, ज्यादा टेलीविजन नहीं देखा, लेकिन अब शो देखना शुरू कर दिया है। मैंने अपनी मां के साथ बहुत समय बिताया है, और ईमानदारी से कहूं तो ऐसे दिन भी थे जब मैंने कुछ नहीं किया।"भूमी का कहना है कि आत्म-प्रेम खुशी की चाबी है और उसने इस लॉकडाउन में खुद को प्राथमिकता दी है।उन्होंने आगे कहा, "मैंने जीवन में जो कुछ भी महत्वपूर्ण है, उसे प्राथमिकता दी है। मैंने खुद को फिर से शिक्षित किया है। लेकिन सबसे बड़ी सीख यह रही है कि मुझे अकेले रहना बहुत पसंद है।" (आईएएनएस)

Ifairer