1 of 1 parts

बॉस या दोस्त! कार्य संबंधो मे स्पष्टता का महत्व

By: Team Aapkisaheli | Posted: 09 Nov, 2017

बॉस या दोस्त! कार्य संबंधो मे स्पष्टता का महत्व
""बॉस या दोस्त ! "" कार्य संबंधो मे स्पष्टता का महत्व :- एक बॉस के रूप मे अपने कर्मचारियो के साथ दोस्ती रखना यह दर्शाता है कि आपके उन सभी के साथ मजबूत और सकारात्मक संबंध है। आपका यह मानना कि आपने कर्मचारियों के परिवार, उनके हित तथा उनके जीवन लक्ष्य के बारे मे जानने से वह कार्य करने के लिए ज्यादा प्रेरित होगें तथा जिन कर्मचारियों के संबंध अपने प्रबंधको के साथ मजबूत होगे वह कंपनी के प्रति अधिक वफादार साबित होगे, बिलकुल सही है हालाकि एक अच्छे प्रबंधक के रूप मे आपको सावधानी पूर्वक अपने और अपने स्टॉफ के बीच की सीमाओ को परिभाषित करना होगा।
आईये इसके कुछ बिदुंओ पर प्रकाश डालते है।
1. अपने कर्मचारियो के साथ अपने और उनके संबंधे को स्पष्ट करे, जब आप उनके साथ एक दोस्त के रूप मे व्यवहार कर रहे हो तब उनके सम्मान की रक्षा करते हुए अपनी और उनके बीच की एक बारीक सीमा ज्ञान अवश्य करायें। इसका मतलब यह है कि आप स्पष्ट करे कि असल मे हमारा लक्ष्य क्या है्?, आपके कर्मचारी कैसे उसे पूरा करने में आपकी मदद कर सकते है और इसके लिए वह आपसे क्या उम्मीद रखते है। ध्यान रखिए की इस बारीक रेखा की सीमा को बहुत ही ध्यान व संयम के साथ तय करे अन्यथा आप अपने कर्मचारियो का विश्वास खो सकते है।
2. अधिकांश दफ्तरो मे बहुत सी ऑफिशियल पार्टीज का आयोजन होता रहता है जिसमें बॉस का जाना भी स्वाभाविक ही होता है आप सब के साथ सामाजिक रहे पर इस बात का विशेष ध्यान रखें कि शराब पीकर खत्म करने वालो मे आप आखिरी न हो। आप सुनिश्चित करे कि आप को पसंद किए जाने साथ-साथ आपकी पीठ पीछे भी आपका सम्मान कायम रहें।
3. कार्यस्थल पर हमेशा किसी एक विशेष कर्मचारी का पक्ष लेना सबसे ब़डी गलती साबित हो सकता है। आपके स्टाफ के अन्य सदस्य जल्दी ही आप पर विश्वास खो सकते है, और इसका सीधा असर आपकी कंपनी की उत्पादक क्षमता पर प़ड सकता है। अगर आप इस बात पर विश्वास करते है कि आप पक्षपात नही करते है तो पहलें स्वंय का विशेषण जरूर करलें और अपने आप से यह प्रश्न पूछें कि "" क्या हर वो व्यक्ति जिसका पक्ष आप ले रहे है व्यवसाय मे कितना योगदान करता है ?"" फिर दूसरा सवाल पूछे कि ""आप अपने प्रत्येक कर्मचारी के साथ कैसा व्यवहार रख रहे है ?"" अगर इसके जवाब मे आप यह महसूस करते है कि आपका व्यवहार उनके द्वारा किए गए कार्यो की तुलना मे अधिक फेवर लेने वाला है तो निश्चित रूप से आपको अपना व्यवहार बदलने की जरूरत है।
4. ऑफिस मे बहुत अच्छे साथी होने के बावजूद आप समय-समय पर अपने कर्मचारियो की कार्य कुशलता तथा क्षमता की जॉंच अवश्य करते रहें। आपका अपने कर्मचारी साथियो के मन मे बिना कार्य कुशलता और क्षमता के बस आपसी मजबूत संबंधो के दम पर मिलने वाले प्रमोशनस जैसे प्रलोभोनो को न पनपने दें
5. आपने काम की गोपनीय जानकारिया जैसे वेतन, काम पर रखने और निकालने के निर्णय तथा त्रैमासिक आय आदि को कभी भी अपने कर्मचारियों के साथ सामाजिक होते समय नही बताना चाहिए। नही तो हो सकता है कि आप अपनी कंपनी की विश्वसनीयता खो दें। इन सब बातों का सावधानी पूर्वक प्रयोग करते हुए निश्चित रूप से अपने कर्मचारियो के साथ मधुर संबंध बनाकर आप अपनी कंपनी के वर्चस्व को आसमान की ऊचाईयों तक ले जा सकते है।

#गुलाबजल इतने लाभ जानकर, दंग रह जाएंगे आप...


boss or friend, work relations

Mixed Bag

error:cannot create object