1 of 4 parts

धनतेरस : इन चीजों की करें खरीददारी, हो जाएंगे मालामाल

By: Team Aapkisaheli | Posted: 05 Nov, 2018

धनतेरस : इन चीजों की करें खरीददारी, हो जाएंगे मालामाल
धनतेरस : इन चीजों की करें खरीददारी, हो जाएंगे मालामाल
कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस का पर्व मनाया जाता है। इस दिन से ही दीपावली पर्व का प्रारंभ हो जाता है। ऎसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन कुछ कुछ जरूर खरीदना चाहिए। खासतौर पर इस दिन लोग सोने, चांदी के सामान और बर्तन खरीदते है। इस दिन आप भी कुछ स्पेशल शोंपिग कर एक धन लगाकर तेरह गुणा धन पा सकते हैं।

- धनतेरस के दिन साबुत धनिया खरीदें, दीपावली की रात लक्ष्मी जी के सामने साबुत धनिया रखें रहने दें। अगले दिन प्रात: साबुत धनिए को गमले में बो दें। ऎसी मान्यता है कि अगर साबुत धनिए से हरा-भरा स्वस्थ पौधा निकले तो आर्थिक स्थिति सुद्रि़ड रहती है। अगर धनिए का पौधा पतला है तो सामान्य आय होती है। पीला व बीमार पौधा निकले या पौधा नहीं निकले है तो आर्थिक परेशानियां आती हैं।

- धनतेरस के दिन लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति, सोने-चांदी के सिक्के आदि खरीदने की परंपरा है। इससे घर में धन और अन्न की कमी नहीं होती। चांदी चंद्रमा का प्रतीक होता है और इससे घर में शीतलता आती है।

#क्या सचमुच लगती है नजर !


धनतेरस : इन चीजों की करें खरीददारी, हो जाएंगे मालामाल Next
Dhanteras Special, buy, stuff, rich in Future, धनतेरस

Mixed Bag

News

मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार 
करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है
 जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा,
मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा, "एक चीज जो मैंने अपने बारे में सीखी है, वह यह कि मुझे अलग, भीड़ से दूर रहना पसंद है। मैंने खुद से प्यार किया है। मैंने बहुत से लोगों को शिकायत करते देखा कि वे घर पर बोर हो चुके हैं या वे बाहर नहीं जा सकते। मैं भी एक एक्सट्रोवर्ट हूं, मैं एक बहुत ही सामाजिक व्यक्ति हूं, लेकिन इस क्वारंटाइन ने मुझे यह एहसास दिलाया है कि मैं लोगों से मिलने की बजाय अलगाव पसंद करती हूं, क्योंकि मैं वास्तव में लोगों के संपर्क में नहीं हूं।"उन्होंने आगे कहा, "मैं किताबे पढ़ने पर जोर दे रही हूं, ज्यादा टेलीविजन नहीं देखा, लेकिन अब शो देखना शुरू कर दिया है। मैंने अपनी मां के साथ बहुत समय बिताया है, और ईमानदारी से कहूं तो ऐसे दिन भी थे जब मैंने कुछ नहीं किया।"भूमी का कहना है कि आत्म-प्रेम खुशी की चाबी है और उसने इस लॉकडाउन में खुद को प्राथमिकता दी है।उन्होंने आगे कहा, "मैंने जीवन में जो कुछ भी महत्वपूर्ण है, उसे प्राथमिकता दी है। मैंने खुद को फिर से शिक्षित किया है। लेकिन सबसे बड़ी सीख यह रही है कि मुझे अकेले रहना बहुत पसंद है।" (आईएएनएस)

Ifairer