1 of 10 parts

दो दिलों का मिलन नहीं,शर्तो के संग सात फेरे

By: Team Aapkisaheli | Posted: 04 Aug, 2015

दो दिलों का मिलन नहीं बल्कि शर्तो के घेरे में आये सात फेरे
दो दिलों का मिलन नहीं,शर्तो के संग सात फेरे
विवाह ना सिर्फ एक सामाजिक प्रथा है, बल्कि व्यक्तिगत तौर पर भी एक जरूरत है, लेकिन बदलते दौर के साथ जब सब कुछ इतनी तेजी से बदल रहा है, तो उसका सबसे ज्यादा असर हमारे संबंधों पर ही पडा है और विवाह भी इससे अछूता नहीं। अब शादी ना सात जन्मों का साथ है, ना ही दो दिलों का मिलन। विवाह में भी अब अपनी सुविधानुसार जीने की आजादी और तौर-तरीकों की शर्ते आ गई हैं। विवाह में दो परिवारों संबंध जुडने की बात अब मायने नहीं रखती, बल्कि दो अलग-अलग लोग किस तरह से और कब तक खुशी-खुशी साथ रह सकते हैं, विवाह आज इस बात पर टिके हैं।
दो दिलों का मिलन नहीं बल्कि शर्तो के घेरे में आये सात फेरे Next
Marriage values are changed now days, love tips dating tips, love solve tips, problematic life tips, couple relationship romantic tips, intimate tips, couple tips, romantic room tips, happy love life

Mixed Bag

error:cannot create object