1 of 1 parts

जानिए भगवान शिव को क्यों चढाते है सावन में जल!

By: Team Aapkisaheli | Posted: 17 July, 2019

जानिए भगवान शिव को क्यों चढाते है सावन में जल!
आज से सावन का महीना शुरु हो गया है। सावन का महिना हिन्दू धर्म के लिए बहुत पावन होता है, इस महीने से अगले चार महीनों के लिए ढेरों तीज त्यौहार शुरू हो जाते है। सावन के महीने में कजरी तीज, हरियाली तीज, मधुश्रावणी, नाग पंचमी जैसे त्यौहार मनाए जाते हैं। वहीं दूसरी और भारतीय संस्कृति के रीति-रिवाज के मुताबिक, भगवान शिव के लिए सावन का महीना काफी अप्रिय है। इस महीने का संबंध पूर्ण रूप से शिव जी से माना जाता है।

इसी महीने में समुद्र मंथन हुआ था और भगवान शिव ने हलाहल विष का पान किया था। हलाहल विष के पान के बाद उग्र विष को शांत करने के लिए भक्त इस महीने में शिव जी को जल अर्पित करते हैं। इस पूरे महीने में लोग भगवान शिव की जमकर अराधना करते हैं।

इस पूरे महीने में चारों ओर भोलेनाथ के नाम की गूंज रहती है। शिव भक्तों के लिए यह महीना एक बड़े त्योहार की तरह होता है।

इस महीने में लोग व्रत करते हैं, शिव की पूजा करते हैं और ज्योतिष उपायों से अपने भविष्य को संवारने की कोशिश करते हैं।

#जानिए अपनी Girlfriend के बारे में 8 अनजानी बातें


sawan 2019, sawan,sawan ka mahina,newly married women,mother home,month of sawan,reasons,worship lord shiva,monday in sawan,sawan puja,sawan month 2018,सावन का महीना,astrology in hindi

Mixed Bag

News

मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार 
करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है
 जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा,
मुंबई । बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर का कहना है कि वह खुद से प्यार करती हैं और महामारी के दौरान उन्होंने उन चीजों पर ध्यान केंद्रित किया है जो उन्हें खुश करती हैं। भूमि ने कहा, "एक चीज जो मैंने अपने बारे में सीखी है, वह यह कि मुझे अलग, भीड़ से दूर रहना पसंद है। मैंने खुद से प्यार किया है। मैंने बहुत से लोगों को शिकायत करते देखा कि वे घर पर बोर हो चुके हैं या वे बाहर नहीं जा सकते। मैं भी एक एक्सट्रोवर्ट हूं, मैं एक बहुत ही सामाजिक व्यक्ति हूं, लेकिन इस क्वारंटाइन ने मुझे यह एहसास दिलाया है कि मैं लोगों से मिलने की बजाय अलगाव पसंद करती हूं, क्योंकि मैं वास्तव में लोगों के संपर्क में नहीं हूं।"उन्होंने आगे कहा, "मैं किताबे पढ़ने पर जोर दे रही हूं, ज्यादा टेलीविजन नहीं देखा, लेकिन अब शो देखना शुरू कर दिया है। मैंने अपनी मां के साथ बहुत समय बिताया है, और ईमानदारी से कहूं तो ऐसे दिन भी थे जब मैंने कुछ नहीं किया।"भूमी का कहना है कि आत्म-प्रेम खुशी की चाबी है और उसने इस लॉकडाउन में खुद को प्राथमिकता दी है।उन्होंने आगे कहा, "मैंने जीवन में जो कुछ भी महत्वपूर्ण है, उसे प्राथमिकता दी है। मैंने खुद को फिर से शिक्षित किया है। लेकिन सबसे बड़ी सीख यह रही है कि मुझे अकेले रहना बहुत पसंद है।" (आईएएनएस)

Ifairer