1 of 5 parts

गुनाहों से तौबा और बरकात की रात है शबे रात

By: Team Aapkisaheli | Posted: 10 May, 2017

गुनाहों से तौबा और बरकात की रात है शबे रात
गुनाहों से तौबा और बरकात की रात है शबे रात
रहमतों के महीने रमजान से पहले मगफेरत का महीना शाबान आता है, जिसे रसूल अकरम ने गुनाहों को मिटाने वाला महीना करार दिया है। इस शाबान के महीने में एक रात ऐसी भी आती है, जिसमें अल्लाह अपने गुनहगार बन्दों की दुआओं को सुनता है और उन लोगों को जहन्नुम से निजात देता है। उस रात अल्लाह की रहमत जोश में होती है और वह पुकार-पुकार कर मगफेरत की चाहत रखने वालों को अपने हुजूर में तौबा करने की इजाजत देता है और फिर उनकी दुआएं कुबूल करता है। फजीलत और बरकत वाली यह रात शबे बरात मुस्लिम कैलेंड के आठवें महीने शाबान की चौदहवीं रात तारीख के मगरीब के वक्त शुरू होकर सुबह सूरज निकले तक जारी रहती है।

#बॉलीवुड डीवाज के फेवराइट बने झुमके


गुनाहों से तौबा और बरकात की रात है शबे रात  Next
Special fact about Shab e baraat, Islamic festival, Shab e baraat, Shab e baraat night of forgiveness, Shab e baraat with special sweet dish, astha and bhakti
Advertisement

Mixed Bag

Advertisement
Advertisement